Bhilwara Online Lokjeevan News Lokwani News Online Games Quick Tour
Interesting Things [ दिलचस्प बातें ]
...जब आप बनाएँ नया मकान
...जब आप बनाएँ नया मकान
नया मकान बनाने से पहले..

नए भवन के निर्माण कराते समय आप अपने शहर के किसी अच्छे वास्तु के जानकार से सलाह अवश्य लें। वास्तु का प्रभाव भवन के रहने वाले व्यक्तियों पर अवश्य पढ़ता है। परंतु इसके साथ-साथ व्यक्ति विशेष के ग्रह योग भी वास्तु के प्रभाव को घटाते-बढ़ाते हैं। हो सकता है कि एक व्यक्ति को कोई विशेष स्थान तकलीफ न दे पर वही स्थान दूसरे व्यक्ति को अत्यंत तकलीफदायक हो।

नए भवन निर्माण के समय कुछ मुख्य बातों पर ध्यान अवश्य दें...।
  • भवन के लिए चयन किए जाने वाले प्लॉट की चारों भुजा राइट एगिंल (90 डिग्री अंश कोण) में हों। कम ज्यादा भुजा वाले प्लॉट अच्छे नहीं होते।
  • प्लाट जहाँ तक संभव हो उत्तरमुखी या पूर्वमुखी ही लें। ये दिशाएँ शुभ होती हैं और यदि किसी प्लॉट पर ये दोनों दिशा (उत्तर और पूर्व) खुली हुई हों तो वह प्लॉट दिशा के हिसाब से सर्वोत्तम होता है।
  • प्लॉट के पूर्व व उत्तर की ओर नीचा और पश्चिम तथा दक्षिण की ओर ऊँचा होना शुभ होता है।
  • प्लाट के एकदम लगे हुए, नजदीक मंदिर, मस्जिद, चौराह, पीपल, वटवृक्ष, सचिव और धूर्त का निवास कष्टप्रद होता है।
  • पूर्व से पश्चिम की ओर लंबा प्लॉट सूर्यवेधी होता है जो कि शुभ होता है। उत्तर से दक्षिण की ओर लंबा प्लॉट चंद्र भेदी होता है जो ज्यादा शुभ होता है ओर धन वृद्धि करने वाला होता है।
  • प्लॉट के दक्षिण दिशा की ओर जल स्रोत हो तो अशुभ माना गया है। इसी के विपरीत जिस प्लॉट के उत्तर दिशा की ओर जल स्रोत (नदी, तालाब, कुआँ, जलकुंड) हो तो शुभ होता है।
  • जो प्लॉट त्रिकोण आकार का हो, उस पर निर्माण कराना हानिकारक होता है।
  • भवन निर्माण कार्य शुरू करने के पहले अपने आदरणीय विद्वान पंडित से शुभ मुहूर्त निकलवा लेना चाहिए।
  • भवन निर्माण में शिलान्यास के समय ध्रुव तारे का स्मरण करके नींव रखें। संध्या काल और मध्य रात्रि में नींव न रखें।
  • नए भवन निर्माण में ईंट, पत्थर, मिट्टी ओर लकड़ी नई ही उपयोग करना। एक मकान की निकली सामग्री नए मकान में लगाना हानिकारक होता है।
  • भवन का मुख्य द्वार सिर्फ एक होना चाहिए तो उत्तर मुखी सर्वश्रेष्ठ एवं पूर्व मुखी भी अच्छा होता है। मुख्य द्वार की चौखट चार लकड़ी की एवं दरवाजा दो पल्लों का होना चाहिए।
  • भवन के दरवाजे अपने आप खुलने या अपने आप बंद न होते हों यह भी ध्यान रखना चाहिए। दरवाजों को खोलने या बंद करते समय आवाज होना अशुभ माना गया है।
  • भवन में सीढ़ियाँ वास्तु नियम के अनुरूप बनानी चाहिए, सीढ़ियाँ विषम संख्या (5,7, 9) में होनी चाहिए।
अरे गजब ! 7 बार चाबी घुमाएं और 2 घंटे तक पंखे की ह..... अरे गजब ! 7 बार चाबी घुमाएं और 2 घंटे तक पंखे की ह.....
कैसे बनें अपने बच्चों के अच्छे मित्र..... कैसे बनें अपने बच्चों के अच्छे मित्र.....
धन की प्राप्ति के लिए लाफिंग बुद्धा को घर के इस स्..... धन की प्राप्ति के लिए लाफिंग बुद्धा को घर के इस स्.....
किस्मत चमकाए, फेंगशुई के उपाय..... किस्मत चमकाए, फेंगशुई के उपाय.....
सॉरी बोलेने के लिये अपनाएं ये क्‍यूट तरीके..... सॉरी बोलेने के लिये अपनाएं ये क्‍यूट तरीके.....
पालक मशरूम - Palak Mushroom Curry - Khumbh Palak C..... पालक मशरूम - Palak Mushroom Curry - Khumbh Palak C.....
क्‍या हंसना, लम्‍बे जीवन के लिए एक दवा है ?..... क्‍या हंसना, लम्‍बे जीवन के लिए एक दवा है ?.....
एजुकेशन फॉर नॉलेज नॉट फॉर जॉब..... एजुकेशन फॉर नॉलेज नॉट फॉर जॉब.....
Advertisement Domain Registration E-Commerce Bulk-Email Web Hosting    S.E.O. Bulk SMS Software Development Web   Development Web Design